गूगल पर लगा 5 अरब डॉलर का जुर्माना, एंड्रॉयड पर कब्‍जेदारी के कारण मिली है ये सजा

ब्रूसेल्स।  

गूगल को एक बार फिर यूरोप में रिकॉर्ड जुर्माना झेलना पड़ रहा है। ब्‍लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक इस बार गूगल पर यह जुर्माना इसलिए लगाया गया है क्योंकि उसने Android मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम और ऐप्‍स पर पूरी तरह से एकाधिकार जमा रखा है। द वर्ज की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले साल भी यूरोपियन कॉम्‍पटीशन कमीशन की ओर से गुगल पर 2.7 बिलियन डॉलर का जुर्माना लगाया गया था।


वह जुर्माना उसे अपनी ऑनलाइन शॉपिंग ऐप से जुड़े मामले में झेलना पड़ा था। पर इस बार यूरोपियन रेगुलेटर ने एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम पर कंपनी के वर्चस्‍व के कारण गूगल पर जुर्माना लगाया है। इस बार गूगल पर लगाए गए जुर्माने की राशि 4.3 बिलियन यूरो यानि करीब 5 अरब डॉलर के आसपास है। यूरोपियन यूनियन द्वारा लगाए गए 5 बिलियन डॉलर के ऐंटीट्रस्ट फाइन के खिलाफ गूगल अपील करेगा।
एंड्रॉयड प्‍लेटफॉर्म पर हावी होकर गलत बिजनेस प्रैक्टिसेस करने का है आरोप
 गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद डाउनलोड की जाने वाली ऐप्स में से 90 फीसद पर Google का ही सिक्का चलता है। यानी कि कंपनी अपने किसी भी दूसरे प्रतिद्वंदी की तुलना में ज्यादा से ज्यादा ऐप्स पर अपने विज्ञापन डिस्प्ले कर सकती हैं। यूरोपियन कमीशन के मुताबिक Android प्लेटफार्म और ऐप्स पर अपने जबरदस्त एकाधिकार के कारण ओवरऑल इंटरनेट सर्च में गूगल विज्ञापनों से होने वाली कमाई में ज्यादा लाभ लेने की क्षमता रखता है और यह कंडीशन फेयर बिजनेस प्रैक्टिस के खिलाफ है।
पिछले साल गूगल की अपनी शॉपिंग सर्विस को दूसरे कॉम्‍पटीटर्स के मुकाबले ज्यादा फेवर करने के कारण यूरोपियन कमीशन ने कंपनी पर 2.7 बिलियन डालर का जुर्माना लगाया था। यूरोपियन कमीशन ने गूगल पर सीधे तौर पर आरोप लगाया है कि अपने सर्च इंजन और क्रोम और ऐप्‍स के साथ मिलकर गूगल पूरे एंड्रॉयड प्‍लेटफॉर्म पर पूरी तरह से हावी है। सिर्फ यहीं नहीं गूगल ऐसे तमाम स्‍मार्टफोन मेकर्स को ब्‍लॉक कर देता है, जो गूगल बेस्‍ड एंड्रॉयड वाली डिवाइसेस नहीं बनाते।

Sources: internel
Powered by Blogger.